Home > Health > मानसून में मलेरिया का खतरा, लक्षण और बचाव

मानसून में मलेरिया का खतरा, लक्षण और बचाव

  • In Health
  •  11 July 2024 1:41 PM GMT

मानसून में मलेरिया का खतरा, लक्षण और बचाव

मानसून का मौसम आते ही...PS

मानसून का मौसम आते ही बीमारियों का प्रकोप भी बढ़ जाता है। इनमें से मलेरिया एक गंभीर बीमारी है जो तेजी से फैल सकती है। यह बीमारी मादा एनोफिलीज मच्छर के काटने से होती है।


मलेरिया के लक्षण:


1.तेज बुखार: मलेरिया का सबसे आम लक्षण तेज बुखार है, जो अक्सर ठंड लगने और पसीने के साथ होता है। यह बुखार आमतौर पर 24-72 घंटे के अंतराल पर आता है।


2.सिरदर्द: मलेरिया में तेज सिरदर्द होना आम है, जो अक्सर आंखों के पीछे होता है।


3.मांसपेशियों में दर्द: मांसपेशियों में दर्द और थकान मलेरिया के सामान्य लक्षण हैं।


4.मतली और उल्टी: मलेरिया में मतली और उल्टी भी हो सकती है।


5.दस्त: कुछ लोगों को मलेरिया के साथ दस्त भी हो सकते हैं।


6.ठंड लगना: ठंड लगना और पसीना आना मलेरिया के शुरुआती लक्षण हो सकते हैं।


मलेरिया की पहचान:


मलेरिया की पुष्टि के लिए रक्त परीक्षण आवश्यक है। यदि आपको उपरोक्त में से कोई भी लक्षण दिखाई दे तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।


बचाव:


•मच्छरों से बचाव: मलेरिया से बचाव का सबसे अच्छा तरीका है मच्छरों से बचना। इसके लिए मच्छरदानी का उपयोग करें, पूरी बांह के कपड़े पहनें और मच्छर भगाने वाली क्रीम लगाएं।


•प्रतिरक्षात्मक दवाएं: यदि आप मलेरिया वाले क्षेत्र में यात्रा कर रहे हैं, तो डॉक्टर से सलाह लेकर प्रतिरक्षात्मक दवाएं ले सकते हैं।


•जल्दी इलाज: मलेरिया का जल्दी इलाज करना महत्वपूर्ण है। यदि आपको लगता है कि आपको मलेरिया हो सकता है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।


निष्कर्ष:


मानसून में मलेरिया का खतरा बढ़ जाता है। यदि आपको उपरोक्त में से कोई भी लक्षण दिखाई दे तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। मच्छरों से बचाव और जल्दी इलाज मलेरिया से बचाव के लिए महत्वपूर्ण हैं।


अस्वीकरण: publickhabar.com पर प्रकाशित सभी स्वास्थ्य संबंधी लेखों को तैयार करते समय सावधानी बरती गई है। ये लेख केवल पाठकों की जानकारी और जागरूकता बढ़ाने के लिए लिखे गए हैं। publickhabar.com लेख में प्रदत्त जानकारी और सूचना के लिए किसी भी तरह का दावा या जिम्मेदारी नहीं लेता है।


उपरोक्त लेख में उल्लिखित संबंधित बीमारी के बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से परामर्श करना आवश्यक है।



Share it
Top